फूलदेई पर्व का सफल समापन, बेटी पढ़ाओ-संस्कृति बचाओ का हुआ उद्घोष- UTTARKASHI NEWS

काशी विश्वनाथ मंदिर उत्तरकाशी में फूलदेई पर्व समापन  फुलदेई, छम्मा देई, दैणी द्वार, भर भकार, ये देली स बारंबार नमस्कार… (यह देहरी फूलों से भरपूर और मंगलकारी हो। सबकी रक्षा करे और घरों में अन्न के भंडार कभी खाली न होने दे।) 14 मार्च  से शुरू हुए चैत का महीना उत्तराखंडी समाज के बीच विशेष पारंपरिक…

अधिक पढ़ें

क्या आप जानते हैं क्यों मनाया जाता है उत्तराखंड का लोक पर्व फूलदेई छम्मा देई त्यौहार !! ( इतिहास और मान्यताये )

  इस तरह टोकरी में फूल लेकर घर-घर पहुंचते हैं बच्चे उत्तराखंड की धरती पर ऋतुओं के अनुसार कई अनेक पर्व मनाए जाते हैं । यह पर्व हमारी संस्कृति को उजागर करते हैं , वहीं पहाड़ की परंपराओं को भी कायम रखे हुए हैं । इन्हीं खास पर्वो में शामिल “फुलदेई पर्व” उत्तराखंड में एक…

अधिक पढ़ें

उत्तरकाशी : फूलदेई पर्व काशी विश्वनाथ में शुरू हुआ,9वें दिन होगा बेटी पढ़ाओ संस्कृति बचाओ का आह्वान.

फूलदेई पर्व काशी विश्वनाथ  गतवर्षो की भांति आज फूलदेई पर्व काशी विश्वनाथ मंदिर के शुरू हुआ। इसकी शुरुआत ढोल बाजों के साथ की गई। गौरतलब है कि पारंपरिक फूलदेई पर्व पर बालिकाएं टोकरी मे फूल लेकर मंदिरों,घर की देहली पर इन फूलों की वर्षा करती हैं।फूलदेई का यह पर्व ज्योति, खुशहाली, सुख समृद्धि का प्रतीक…

अधिक पढ़ें